"पैनी नजर तीखी सोच"
>>>पूरे महाराष्ट्र में विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे एस पूजा प्रतिष्ठा (महाराष्ट्र हैड )मो=8989856954                     >>>-हमीरपुर जिले में विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे शशिकान्त कुमार (जिला संवाददाता)मो=9450263952-                     >>>जालौन जिले में विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे रंजीत सिंह (जिला संवाददाता)मो=8423229874                     >>>आ गया आपके बीच खबरो का बादशाह सोनी ग्रुप का नया प्रकाशन- -हिन्दी साप्ताहिक \\\"सोनी मेल\\\"(सोने सी खरी,सच्ची खबरे) -जनपद और तहसील स्तर पर संवाददाता काम करने के लिए संपर्क करे मो-09935930825-sonimailorai@gmail.com-                     >>>नोट-चैनल पर लगायी गयी/ दिखाई गयी किसी भी सुचना के लिए चैनल जिम्मेदार नहीं होगा इसकी जिम्मेदार सिर्फ संवाददाता ही माना जायेगा www.soninews.com                     >>>-सोनभद्र जिले में विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे संजीव कुमार (जिला संवाददाता)मो=09125660770-                     >>>-पूरे महाराष्ट्र में रिपोर्टिंग करने के लिए संपर्क करे कैलाश गुप्ता मो=09967484432-                     >>>-जनपद झाँसी में किसी भी प्रकार की सूचना के लिए या विज्ञापन के लिए संपर्क करे (झाँसी) = कमलेश कुमार चौबे \ अरुण कुमार वर्मा मो=9935326375-9455650524\                     >>>=पूरे बुन्देलखण्ड में विज्ञापन के लिए संपर्क करे-ऍम अरमान-मार्केटिंग हैड मो=9369486011                     >>>-झाँसी मण्डल में रिपोर्टिंग करने के लिए संपर्क करे-प्रतिपाल सोनी मो=9450041633                     >>>-पूरे उत्तर प्रदेश में काम करने के लिए संपर्क करे यू पी हेड सुनीता सिंह मो=8127480144                     >>>यदि आप करना चाहते है किसी बड़े राज का फर्दाफास यदि है कोई ऐसा वीडीओ या फोटो जिससे हो सकता है राज का फर्दाफास तो हमें संपर्क करे मो= 8127480144                     >>>हर जनपद में काम करने के लिए जिला संवाददाता की आवश्यकता है जिला संवाददाता बनने के लिए संपर्क करे soninewsassement@gmail.com mo=8127480144                     >>>नये कलेवर मे जल्द आ रहा है तीस वर्ष से समाज की हर खबर पर नजर रखने वाला साप्ताहिक उद्दालकपूरी न्यूज़ पेपर                     >>>-हमारे मीडिया पार्टनर:एक्सप्रेस न्यूज़ एजेन्सी(देहली)/विश्व मीडिया परिवारदिल्ली/तरंग मीडिया प्रा०ली०दिल्ली/कामधेनु चैनल प्रा०ली०दिल्ली/साप्ताहिक वोटर न्यूज़ दिल्ली-                     
  Welcome Dear :: News Details
 
विकलांग से दिव्यांग हो गए, पर कुछ बदला क्या
Date: 2017-Apr-21, Fri   |   Time: 18:04:18   |   SONI News
 
विकलांगों को अब दिव्यांग कहा जाने लगा है, लेकिन इस सम्मानजनक संबोधन से उनकी समस्याओं में कोई कमी नहीं आयी है. अधिकतर सार्वजनिक जगहों पर उनके लिए जरूरी सुविधाओं का अभाव है.

भारत में ढाई करोड़ से कुछ अधिक लोग विकलांगता से जूझ रहे हैं. इतनी बड़ी संख्या होने के बावजूद इनकी परेशानियों को समझने और उन्हें जरूरी सहयोग देने में सरकार और समाज दोनों नाकाम दिखाई देते हैं. देश में हुए एक सर्वे से सामने आया है कि अधिकांश सार्वजनिक स्थलों पर सुविधाओं के लिहाज से विकलांगों का जीवन किसी चुनौती से कम नहीं है.

सुविधाओं का अभाव

विकलांगता की समस्या से दो चार हो रहे लोगों के लिए जो न्यूनतम आवश्यक सुविधाएं सार्वजानिक जगहों पर होनी चाहिए, उसका अभाव लगभग सभी शहरों में है. अस्पताल, शिक्षा संस्थान, पुलिस स्टेशन जैसी जगहों पर भी उनके लिए टॉयलेट या व्हील चेयर नहीं हैं. गैर सरकारी संस्था ‘स्वयं फाउंडेशन' ने देश के आठ शहरों में किये अपने सर्वे में पाया कि सार्वजानिक जगहों पर जो सुविधाएं विकलांगों के लिए होनी चाहिए, वे नहीं हैं.

‘एक्सेसिबल इंडिया कैंपेन' यानी ‘सुगम्य भारत अभियान' के तहत किए गये इस सर्वे मे सार्वजानिक स्थानों की पड़ताल की गयी. लगभग अस्सी फीसदी स्थानों पर रैम्प नहीं पाया गया. इस सर्वे में शामिल किसी भी बिल्डिंग में विकलांगों के लिए अलग से पार्किंग की व्यवस्था नहीं थी. जबकि अधिकतर बिल्डिंग में निर्धारित मानकों के अनुसार विकलांगों के लिए शौचालय तक नहीं पाया गया. मुंबई के आलावा चंडीगढ़, दिल्ली, फरीदाबाद, देहरादून, गुरुग्राम, जयपुर और वाराणसी में भी इस तरह के सर्वे किये गये. स्वयं फाउंडेशन' के सानू नायर के अनुसार इन सभी शहरों में स्थिति लगभग एक जैसी ही है.

सरकारी प्रयास

एक्सेसिबल इंडिया कैंपेन के जरिये सरकार विकलांगों के लिए सक्षम और बाधारहित वातावरण तैयार करने पर जोर दे रही है. इस अभियान के तहत जुलाई 2018 तक राष्ट्रीय राजधानी और राज्य की राजधानियों की कम से कम 50 सरकारी इमारतों को दिव्यांगों के लिए ‘पूरी तरह उपयोग' लायक बनाया जाएगा. परिवहन प्रणाली में सुगम्यता और ज्ञान तथा आईसीटी पारिस्थितिकी तंत्र में विकलांगों की पहुंच को लक्ष्य बनाया गया है.

दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग के अनुसार भवनों को पूरी तरह सुगम्य बनाने के लिए 31 शहरों के 1098 भवनों में से 1092 भवनों की जांच का कार्य पहले ही पूरा हो चुका है. विकलांगों के लिए विशेष व सुगम शौचालय का डिजाइन बना कर राज्यों को भेजा जा रहा है. इसके तहत पानी की उपलब्धता, दरवाजे, कमोड की उंचाई, पकड़ने के लिए दोनों तरफ रॉड, स्वच्छ टोंटी तथा नल, लीवर हैंडल नल सहित वाश बेसिन व हवादार तथा प्रकाश जैसे मानक बनाये गये हैं. इसी के आधार पर पूरे देश भर में शौचालय बनाये जायेंगे.

सोच बदलनी होगी

आधुनिक होने का दावा करने वाला समाज अब तक विकलांगों के प्रति अपनी बुनियादी सोच में कोई खास परिवर्तन नहीं ला पाया है. अधिकतर लोगों के मन में विकलांगों के प्रति तिरस्कार या दया भाव ही रहता है, यह दोनों भाव विकलांगों के स्वाभिमान पर चोट करते हैं. शारीरिक रूप से असक्षम के लिए काम करने वाले किशोर गोहिल कहते हैं, "दिव्यांग कह भर देने से इनके जीवन में कोई बदलाव नहीं आएगा. यह केवल छलावा है." उनका कहना है, "हमें इंसान ही समझ लो वही काफी है. असक्षमता के चलते जो असुविधा है, उसके लिए इंतजाम होने चाहिए."

केन्द्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू का कहना है कि दिव्यांग लोगों के प्रति अपनी सोच और मानसिकता को बदलने का समय आ गया है. विकलांगों को समाज की मुख्यधारा में तभी शामिल किया जा सकता है जब समाज इन्हें अपना हिस्सा समझे, इसके लिए एक व्यापक जागरूकता अभियान की जरूरत है.

हाल के वर्षों में विकलांगों के प्रति सरकार की कोशिशों में तेजी आयी है. विकलांगों को कुछ न्यूनतम सुविधाएं देने के लिए प्रयास हो रहे हैं या कम से कम प्रयास होते हुए दिख रहे हैं. वैसे, योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर सरकार पर सवाल उठते रहे हैं. पिछले दिनों क्रियान्वयन की सुस्त चाल को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को फटकार लगायी है. सकारात्मक परिणाम के लिए दीर्घकालीन उपायों पर जोर देते हुए सानू नायर कहते हैं कि विकलांग व्यक्तियों को शिक्षा, रोजगार और व्यवसाय के लिए विशेष प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए तभी वह बेहतर गुणवत्तापूर्ण जीवन व्यतीत कर सकते हैं.

विकलांगों को शिक्षा से जोड़ना बहुत जरूरी है. इस वर्ग के लिए, खासतौर पर, मूक-बधिरों के लिए विशेष स्कूलों का अभाव है जिसकी वजह से अधिकांश विकलांग ठीक से पढ़-लिखकर आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर नहीं बन पाते. किशोर गोहिल का मानना है कि विकलांगों को अवसर प्रदान करना या उन पर निवेश करना घाटे का सौदा नहीं है बल्कि इससे देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी

SUNITA SINGH


Comment Box

  
                                                                                 
     

लखनऊ में नेहा धूपिया ने फैशन शो में की शिरकत


full story

प्रदेश सरकार बुंदेलखण्डी कलाकारों की कर रही उपेक्षा-राजा खान


full story



Advertisement
Advertisement

Today's Images

 

SMS Alert Subscription

मशहूर गायिका मालिनी अवस्‍थी के IAS पति अवनीश अवस्थी CM योगी आदित्यनाथ के बने प्रधान सचिव.
2017-Apr-09, Sun     23:33:08
.......................................................................................
-समस्त देशवासियो "सोनी न्यूज़" परिवार की ओर से नूतन वर्ष 2017 की हार्दिक शुभकामनाये- अजय सोनी (C.M.D.) (चीफ एडिटर) SONI NEWS
2016-Dec-31, Sat     23:40:14
.......................................................................................
-समस्त देशवासियो "सोनी न्यूज़" परिवार की ओर से नूतन वर्ष 2017 की हार्दिक शुभकामनाये- सुनीता सिंह यूपी हैड SONI NEWS
2016-Dec-31, Sat     23:40:02
.......................................................................................
नोट-चैनल पर लगायी गयी/ दिखाई गयी किसी भी सुचना के लिए चैनल जिम्मेदार नहीं होगा इसकी जिम्मेदार सिर्फ संवाददाता ही माना जायेगा www.soninews.com
2013-Aug-12, Mon     15:07:50
.......................................................................................
Welcome to soni news.com \\\"पैनी नजर तीखी सोच\\\" विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे सोनी न्यूज़ मो=9415596496-8127480144-9935930825 इ-मेल=soninewsassement@gmail.com www.soninews.com
2012-Jan-05, Thu     14:46:22
.......................................................................................

Follow Us